अकबर के नवरत्न के नाम क्या थे?


Akbar ke navratna ke naam, अकबर के नवरत्न कौन थे, अकबर के नवरत्न और उनके पद, अकबर के नौ रत्नों के नाम और काम

हमारे भारत में हर विद्यालय के अंदर इतिहास की किताबों में हमें अकबर का पूरा इतिहास पढ़ने को मिल जाता है साथ ही उनमें हमें अकबर के नवरत्न के बारे में भी जानकारी मिल जाती है पर जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते हैं हमारा स्कूल टाइम खत्म होता है, तो उसके बाद चीजें हमारे दिमाग से निकलना शुरू हो जाती है,

Akbar ke navratna ke naam

इसलिए दोस्तों अगर आप अकबर के नवरत्न के बारे में जानकारी फिर से अर्जित करना चाहते हैं तो हमारी इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढ़े, यहां आपको बताया गया है कि अकबर के नवरत्न कौन थे और उनके क्या नाम थे।

अकबर के नवरत्न के नाम की सूची

अकबर भारत का एक बहुत बड़ा मुगल शहंशाह था, जिसे लोग भिन्न-भिन्न नामों से पुकारते थे आज अकबर का एक बहुत ही बड़ा इतिहास हमारे सामने निकल कर आता है, जिनमें सबसे पहला जिक्र अकबर के नवरत्न का होता है,

दरअसल अकबर के दरबार में अकबर के काफी चहेते और विश्वासपात्र नो दरबारी थे जिन्हें अकबर के नवरत्न के नाम से आज भी जाना जाता है,

और आज की पोस्ट में हम उन्हीं नवरत्न के बारे में आपको बताने जा रहे हैं, तो आइए जानते हैं अकबर के नवरत्न के बारे में।

संख्यानवरत्न के नामनवरत्न के काम (पद)
1बीरबलसलाहकार
2तानसेनसंगीतज्ञ
3राजा टोडरमलवित्त मंत्री
4अबुल फजलसलाहकार एवं सचिव
5फैजीकवि
6राजा मानसिंहसेनापति
7मुल्ला दो प्याजासलाहकार
8हक़ीम हुमामरसोईघर के प्रधान
9अब्दुल रहीम खान-ए-खानाखाने खाना (कवि)

No 1: बीरबल (अकबर का पहला नवरत्न)

अकबर के नवरत्नों में से बीरबल का जन्म मध्यप्रदेश में 1528 ईसवी में एक ब्राह्मण समाज में हुआ था और इनके बचपन का नाम “महेश दास”था,

बीरबल अकबर के सलाहकार के रूप में जाने जाते थे, बीरबल काफी ज्यादा चतुर और बुद्धिमान थे और बीरबल की बुद्धिमानी से संबंधित कहानियां आज हमें बहुत सी किताबों के अंदर पढ़ने को मिल जाती है,


बीरबल की चतुराई की कहानियां हमें कुछ टीवी सीरियल्स के अंदर भी देखने को मिल जाती है,

No 2: तानसेन (अकबर का दूसरा नवरत्न)

तानसेन का जन्म 1506 ईस्वी के अंदर ग्वालियर जिले के बेहट नामक गांव में हुआ था, इन्होंने अपनी संगीत की शिक्षा स्वामी हरिदास जी से प्राप्त की थी,

तानसेन काफी बड़े संगीतकार थे जो कि अकबर के दरबार में संगीतज्ञ का कार्य करते थे यानी कि संगीत गाते थे, इनका वास्तविक नाम राम तनु पांडे था,

चीते से भी तेज इंसान: दुनिया का सबसे तेज दौड़ने वाला जीवित इंसान कौन है इसकी आपके पास जानकारी अवश्य होनी चाहिए दुनिया के सबसे तेज आदमी के बारे में जानने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

No 3: राजा टोडरमल (अकबर का तीसरा नवरत्न)

राजा टोडरमल का जन्म 1500 ईसवी के अंदर हुआ था, यह अकबर के दरबार में वित्त मंत्री के रूप में कार्यरत थे यह अकबर के दरबार के अंदर राजस्व सुधार के कार्यों को संभालते थे।

No 4: अबुल फजल (अकबर का चौथा नवरत्न)

अबुल फजल का जन्म 14 जनवरी 1551 ईस्वी में उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा शहर में हुआ था, अबुल फजल अकबर के मुख्य सचिव और सलाहकारों में से एक थे, अबुल फजल ने अकबरनामा और अकबरी नामा की रचना की थी, जिनसे आज हमें अकबर के इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त होती है।

अकबर के नौ रत्नों में से एक अबुल फजल 1602 ईस्वी में अपने कार्य को पूरा कर आगरा की तरफ लौट रहे थे, उस वक्त अचानक जहांगीर ने इनके ऊपर हमला कर दिया और उस हमले में अबुल फजल की मौत हो गई थी।

No 5: फैजी (अकबर का पांचवा नवरत्न)

फैजी अकबर के समय के काफी अच्छे कवि थे यह अबुल फजल के बड़े भाई थे, फैजी का जन्म 24 सितंबर 1547 में आगरा के अंदर हुआ था, अकबर ने फैजी को अपने बेटे की गणित की शिक्षा के लिए नियुक्त किया था और बाद में अकबर ने उन्हें अपने नवरत्न के अंदर शामिल कर लिया था।

No 6: राजा मानसिंह ( अकबर के छठे नवरत्न)

राजा मानसिंह का जन्म 21 दिसंबर 1550 ईस्वी मैं आमेर के अंदर हुआ था, राजा मानसिंह अकबर की सेना के अंदर सेनापति के रूप में कार्यरत थे साथ ही यह अकबर के ससुर राजा भारमल के बेटे थे यानी कि यह अकबर के साले साहब थे,

बालिका वधू: अगर आप बालिका वधू टीवी सीरियल को पूरा देखना चाहते हैं तो यहां दिए लिंक पर क्लिक करके पूरी जानकारी प्राप्त करें।

No 7: मुल्ला दो प्याजा (अकबर के सातवें नवरत्न)

मुल्ला दो प्याजा एक तिगड़म बाज होने के बावजूद भी अकबर के दरबार में अकबर के सलाहकारों के अंदर गिने जाते थे और इन्हें अकबर के नवरत्न होने का खिताब भी हासिल हुआ था।

No 8: हक़ीम हुमाम (अकबर के आठवें नवरत्न)

अकबर अकबर के नौ रत्नों की सूची में नंबर आठ पर हक़ीम हुमाम का नाम आता है जोकि अकबर के रसोईघर के प्रधान के रूप में कार्यरत हुआ करते थे।

No 9: अब्दुल रहीम खान-ए-खाना (अकबर के नोवे नवरत्न)

अब्दुल रहीम खान-ए-खाना एक बहुत ही अच्छे कवि थे, जो कि अकबर की सेना के एक विश्वसनीय पात्र जनरल बैरम खान के पुत्र थे, अब्दुल रहीम अपनी गजलों और दोहो को लेकर काफी ज्यादा प्रचलित हुआ करते थे, साथ ही आपकी जानकारी के लिए बता दें अब्दुल रहीम के द्वारा ही बाबरनामा लिखा गया था जो कि तुर्की भाषा में है।

People also ask: आपके पूछे गए सवाल

Q : अकबर का वित्त मंत्री कौन था?

Ans: अकबर का वित्त मंत्री “राजा टोडरमल” था।

Q : अकबर का जन्म कब हुआ था?

Ans: अकबर का जन्म 15 अक्टूबर 1542 ईस्वी मैं हुआ था।

Q : अकबर की मृत्यु कब हुई थी?

Ans: अकबर की मृत्यु “फतेहपुर सीकरी” के अंदर 27 अक्टूबर 1605 ईस्वी में हुई थी।

Q : बीरबल की मृत्यु कब हुई थी?

Ans: 16 फरवरी 1586 ईस्वी में अफगानिस्तान के साथ हुए युद्ध में बीरबल की मृत्यु हो गई थी।

Q : अकबर का बेटा कौन था?

Ans: अकबर के कुल तीन बेटे थे, जिनके नाम “सलीम, मुराद और दानियाल” था।

Q : अकबर की कितनी पत्नियां थी?

Ans: अकबर की कुल 7 पत्नियां थी।

Q : अकबर को किसने मारा था?

Ans: राजपूत शासक महाराणा प्रताप।

Q : अकबर के दरबार में कितने रत्न थे?

Ans: अकबर के दरबार में कुल 9 रतन थे, बीरबल, तानसेन, टोडरमल, अबुल फजल, फैजी, मानसिंह, मुल्ला दो प्याजा, हक़ीम हुमाम और अब्दुल रहीम खान-ए-खाना।

google News

नमस्कार दोस्तों ! मेरा नाम Lakhan Panchal है और मैं इस Blog का Founder हूं, harsawal.com वेबसाइट पर आप mobile review, apps review, mobile games, earn money, apps download, Youtube, Meaning, Cricket, GK, Cryptocurrency, Share Market, Loan, social media से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment