रेडियो का आविष्कार किसने और कब किया है?


Radio ka avishkar kisne kiya tha, who invented radio, radio frequency kya hai, radio price, transistor radio kya hota hai, रेडियो का अविष्कार किसने और कब किया है।

आज के जमाने में रेडियो, टेलीविजन, वीसीआर, सीडी, डीवीडी प्लेयर्स की जगह मोबाइल ने ले ली है, पर क्या आपको पता है, इन सभी से पहले रेडियो का आविष्कार हुआ है, और रेडियो के आने के बाद नए-नए आविष्कार देखने को मिले हैं।

अगर शुरुआती दौर की बात करें तो सबसे पहले मनोरंजन का साधन सिर्फ रेडियो ही हुआ करता था, जो कि हर इंसान के पास उपलब्ध रहता था, पर आज के समय की बात की जाए तो आज धीरे-धीरे लोग रेडियो का नाम भी भूल रहे हैं।

पर दोस्तों कुछ व्यक्ति ऐसे हैं जिन्हें आज भी रेडियो सुनना काफी ज्यादा पसंद है, और आज के समय में आप अपने मोबाइल के माध्यम से भी रेडियो सुन सकते हैं या फिर ऑनलाइन गूगल के माध्यम से भी  रेडियो सुना जा सकता है।

Radio ka avishkar kisne kiya tha

दोस्तों अगर आप रेडियो के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं जैसे कि रेडियो क्या है, रेडियो का आविष्कारक कौन है, radio frequency kya hai, रेडियो कैसे काम करता है, इन सभी के अलावा रेडियो से संबंधित आपको यहां हर मुमकिन जानकारी दी गई है।

रेडियो क्या है? | रेडियो किसे कहते हैं?

रेडियो एक तरह का यंत्र है, जिसके माध्यम से सूचनाओं को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाया जाता है, रेडियो के माध्यम से मनोरंजन, सूचना, समाचार का प्रसारण किया जाता है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसे सुन सके और इसका फायदा उठा सकें।

यहां आपकी जानकारी के लिए बता दे शुरुआत में जब रेडियो का आविष्कार हुआ था, उस वक्त रेडियो का इस्तेमाल किसी संदेश को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के लिए किया जाता था, पर समय के साथ इसमें बदलाव किए गए और आज इसे सूचनाओं के साथ-साथ मनोरंजन का भी साधन बना दिया गया है।

आज हम सभी रेडियो का इस्तेमाल कर सकते हैं। आज के समय में देखा जाए तो रेडियो टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके आज काफी सारी चीजें बनाई गई है, जिनमें से हमारे मोबाइल की टेक्नोलॉजी भी रेडियो टेक्नोलॉजी के ऊपर काम करती है।


और रेडियो मे संदेश को एक जगह से दूसरी जगह भेजने के लिये रेडियो तरंगो का इस्तिमाल करते हैं। असल मे यह रेडियो तरंगें एक प्रकार की विद्युत चुम्बकीय तरंगें होती है और जिनकी आवृत्ति 30Hz से 300GHz तक होती है।

रेडियो टेक्नोलोजी वर्तमान में सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली टेक्नोलोजी है। जिसका इस्तिमाल ज्यादातर रडार, रेडियो नेविगेशन, रिमोट कंट्रोल, रिमोट सेंसिंग आदि मे करते है। 

हमें उम्मीद है आपको समझ में आ गया होगा रेडियो क्या है और रेडियो किसे कहते हैं। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आ रहा होगा, अगर आप हमारा लेख पसंद कर रहे हैं तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें और साथ ही हमारी वेबसाइट पर सब्सक्राइब भी करें।

रेडियो का आविष्कार किसने किया हैं?

सबसे पहले तो यहां हम आपको बता दें, रेडियो का आविष्कारक कोई एक वैज्ञानिक या कोई एक व्यक्ति नहीं किया, हमारे इतिहास मैं मिली जानकारी के अनुसार रेडियो का आविष्कार सन 1880 में “गुल्येल्मो मार्कोनी” (Guglielmo Marconi) ने किया था।

पर इतिहास में इनके अलावा और भी 2 वैज्ञानिकों के नाम दर्ज है जिन्होंने रेडियो का आविष्कार किया है, और “गुल्येल्मो मार्कोनी” के अलावा रेडियो के आविष्कारक में “Reginald Fessenden” और “William Dubilier” का नाम भी शामिल है, क्योंकि इन्होंने भी रेडियो बनाने में एक बहुत ही खास भूमिका निभाई है।

रेडियो का आविष्कार कैसे हुआ है?

सबसे पहले सन 1864 में “जेम्स क्लर्क मैक्सवेल” (James Clerk Maxwell) ने एक experiment किया और उस experiment मे उन्होंने पाया की “इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव” यानि कि “विद्युतचुम्बकीय” तरंगों को एक जगह से दूसरी जगह पर असानी से भेजा जा सकता है, वह भी बिना किसी तार का इस्तिमाल करें।

इसी से उन्हें यह आईडिया मिला कि यह एक ऐसी तकनीक या टेक्नोलॉजी बन सकती है, जिसका इस्तेमाल करके किसी संदेश को एक जगह से दूसरी जगह काफी कम वक्त में बिना किसी तार की सहायता के भेजा जा सकता है।

उन्होंने इस आविष्कार की theory को लिखित में तैयार तो कर लिया था, पर वह इस theory के ऊपर अपना काम पूरा नहीं कर पाए थे और उनकी यह theory काफी टाइम तक यूं ही पड़ी रही थी, पर जेम्स क्लर्क मैक्सवेल की मृत्यु के बाद “Heinrich Hertz” नामक एक वैज्ञानिक ने इस थ्योरी पर काम किया।

उनकी इस थ्योरी को पूरा समझने के बाद इसके ऊपर काम करना शुरू कर दिया था, और इसके ऊपर काम करने के बाद उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि वह इस थ्योरी की मदद से “Electromegnetic Wave” को एक जगह से दूसरी जगह बिना किसी तार का उपयोग किये आसानी से भेज सकते है।

इस तरह से जेम्स क्लर्क मैक्सवेल (James Clerk Maxwell) की Electromegnetic Wave की इस थ्योरी को “Heinrich Hertz” द्वारा एक प्रक्टिकल का रूप दिया गया। इसी दौरान “गुल्येल्मो मार्कोनी” अपने एक अविष्कार पर रिसर्च कर रहे थे। 

और उस वक्त इन्होंने Electromegnetic Wave की इस थ्योरी को अपने इस प्रयोग मे शामिल किया और सन 1880 में एक रेडियो सिगनल भेजा। असल मे यह कोई रेडियो सिग्नल नही था, बल्की यह एक संगीत की ध्वनी थी जिसे Electromegnetic Wave की मदद से भेजा गया था।

इतना सब कुछ करने के बाद भी “Heinrich Hertz” ने इस आविष्कार को दुनिया के सामने नहीं रखा और ना ही इसे पेटेंट करवाया, पर इसके बाद संन 1898 में अपने इस आविष्कार को दुनिया के सामने रखा और इसे James Clerk Maxwell के साथ-साथ अपने नाम पर किया।

भारत में रेडियो का आविष्कार कब और किसने किया?

दोस्तों अगर बात की जाए, भारत में रेडियो की खोज कब हुई थी, भारत में रेडियो की शुरुआत कब हुई, तो यहां आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें, भारत मे रेडियो का इतिहास लगभग 100 साल से भी ज्यादा पुराना है।

और भारत में पहली बार 13 नवंबर 1923 में “रेडियो क्लब बंगाल” की शुरुआत हुई थी, और इसके कुछ महीनों बाद 8 जून 1924 में मुंबई में एक प्राइवेट रेडियो क्लब की शुरुआत की गई थी, फिर इसके बाद मद्रास में 31 जुलाई 1924 को एक और रेडियो क्लब की शुरुआत की गई।

पर दुर्भाग्यपूर्ण यह सभी रेडियो क्लब साल 1927 में बंद हो गए थे, और फिर 23 जुलाई 1992 को “Indian Brodcasting Company” (IBC) एक प्राइवेट प्रसारण कम्पनी बन गई, और इस प्राईवेट कम्पनी का उदघाटन वायसराय लार्ड इरविन ने किया था।

इस कम्पनी मे इस्तिमाल किये गये वेव ट्रांसमीटर डेढ कीलोवाट की Capacity के हुआ करते थे,  और इस कम्पनी के प्रसारण को 48 कीलोमीटर तक सुना जा सकता था। उसके बाद रंगून और रांची मे भी ऐसे छोटे प्रसारण केंद्र खोले गये।

उसके बाद सन 1930 मे भारतीय राज्य प्रसारण निगम सेवा की शुरुआत हुई, उसके बाद मे भारत सरकार ने रेडीयो लाईसेंस का शुल्क वसूलने का श्रम और उधोग मंत्रालय के माध्यम से डाक और तार विभाग को सोंपा गया।

अब वो समय आ गया था जब भारतीय राज्य प्रसारण निगम सेवा को बंद करने की मजबूरी हो गयी थी क्योंकी सन 1931 मे देश मे आर्थिक मंदी आयी और इसी के कारण 10 अक्टूबर 1931 को भारतीय राज्य प्रसारण निगम सेवा को भी बंद करना पडा।

असल मे यह सेवा यानि कि भारतीय राज्य प्रसारण निगम सेवा जनता को काफी ज्यादा पसंद आयी और जब इसे 10 अक्टूबर 1931 को बंद किया गया तो जनता की बढ़ती मांग के कारण इसे फिर से 23 नवंबर 1931 को शुरू किया गया, 10 सितंबर 1934 को मैसूर मे 250 वाट का एक और ट्रांसमीटर लगया और इस प्रसारण केंद्र का नाम आकाशवाणी रखा गया।

सन 1935 मे मार्कोनी कम्पनी ने पेशावर मे अपने 250 वाट का ट्रांस्मीटर लगाया और अपने ग्रामीण प्रसारण के लिये 14 गांवो को चुना और इसके लिये प्रसारण का समय प्रतिदिन शाम को एक घंटा रखा गया।

8 जून सन 1936 को इंडियन ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन सर्विस को ब्रिटन के नियोलियन फिल्डेन ने “ऑल इंडिया रेडियो” (All India Radio) नाम दिया।

उसके बाद सन 1941 मे सूचना प्रसारण विभाग का गठन किया गया इससे पहले कोई सूचना प्रसारण विभाग नही था। इस तरह भारत में रेडियो की शुरुआत हुई थी उम्मीद है यह जानकारी आपको अत्यधिक पसंद आई होगी।

Interesting Fact for Radio: रेडियो से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी

No 1: साल 1864 के अंदर “हेनरिच हर्ट्ज़” ने रेडियो फिरिक्वेंसी (radio frequency) को संचालित किया था।

No 2: साल 1906 के अंदर पहली बार “मार्कोनी” द्वारा बनाई गई रेडियो तरंगो को “अटलांटिक महासागर” मैं मौजूद जहाजों के ऑफिसर्स को सुनाया गया था।

No 3: साल 1918 में दुनिया का पहला रेडियो स्टेशन न्यूयॉर्क में खुला था।

No 4: साल 1919 में दुनिया का दूसरा रेडियो स्टेशन “सैन फ्रांसिस्को” मैं खुला था।

No 5: सन 1923 में रेडियो द्वारा पहली बार विज्ञापन की शुरुआत की गई थी।

No 6: सन 1923 के अंदर रेडियो चलाने के लिए लोगों को लाइसेंस लेना पड़ता था और रेडियो के लाइसेंस के लिए ₹10 फीस भरनी पड़ती थी।

No 7: भारत में सर्वप्रथम रेडियो का प्रसारण मुंबई शहर में हुआ था।

No 8: रेडियो को शुरुआत में लोग “वायरलेस टेलीग्राफ” के नाम से जानते थे।

No 9: आज हमारे पूरे भारत में सबसे ज्यादा लोकप्रिय रेडियो चैनल 93.5 एफएम है।

क्या आप जानते हैं दुनिया का सबसे पहला रेडियो स्टेशन कहां खुला था?

दोस्तों अगर बात की जाए कि पूरे विश्व में सबसे पहले रेडियो स्टेशन कहां खुला था तो यहां आपकी जानकारी के लिए बता दें, सर्वप्रथम “दुनिया का पहला रेडियो स्टेशन” साल 1918 में न्यूयॉर्क शहर के अंदर खुला गया था और इसे वहां की सरकार ने इनलीगल घोषित करके बंद कर दिया था। इसके बाद सन 1920 में क़ानूनी तौर पर रेडियो को लीगल घोसित किया गया और फिर से स्थापित किया गया।

रेडियो सिग्नल्स का इस्तेमाल कहा पर होता है?

दोस्तों जैसा कि आप सभी को पता है रेडियो के आविष्कार के बाद ही आज पूरी दुनिया में नए-नए आविष्कार देखने को मिल रहे हैं और उन सभी के अंदर रेडियो टेक्नोलॉजी का ही इस्तेमाल हो रहा है।

और अगर यहां हम बात करें कि रेडियो सिगनल्स का इस्तेमाल कहां पर होता है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दें, रेडियो सिग्नल्स का इस्तेमाल टेलेविज़न, ब्राडकास्टिंग, सेल फ़ोन्स, वायरलेस कम्युनिकेशन, सैटेलाइट और इंटरनेट में किया जाता है।

रेडियो शब्द कहां से आया है? | रेडियो शब्द का मतलब क्या होता है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें रेडियो शब्द की उत्पत्ति लेटिन भाषा से हुई है, और लेटिन भाषा के अंदर से रेडियो शब्द को “रेडियस” शब्द से लिया गया है, रेडियो शब्द कि शुरुआत 20वीं शताब्दी के अंदर की गई थी। 

और शुरुआत के अंदर लेटिन भाषा के शब्द “रेडियस” से वायरलेस तकनीक को नाम देने के लिए “रेडियो कंडक्टर” नाम निकाला गया था। यानी की शुरुआत में रेडियो को “रेडियो कंडक्टर” भी कहा जाता था। और आपकी जानकारी के लिए बता दिए थे रेडियो कंडक्टर शब्द को साल 1897 में फ्रांस की भौतिक शास्त्री “एडुवार ब्रेनली” ने इस नाम का उपयोग किया था।

People also ask: आपके सवालों के जवाब

Q1: दुनिया में सबसे पहले रेडियो स्टेशन कहां खुला था।

Ans: सर्वप्रथम “दुनिया का पहला रेडियो स्टेशन” साल 1918 में न्यूयॉर्क शहर के अंदर बनाया गया था और इसे वहां की सरकार ने इनलीगल घोषित करके बंद कर दिया था।

Q2: पूरी दुनिया में “world radio day कब मनाया जाता है?

Ans: पूरी दुनिया में विश्व रेडियो दिवस 13 फरवरी को मनाया जाता है।

Q3: सर्वप्रथम भारत में रेडियो की शुरुआत कब हुई थी?

Ans: भारत में सर्वप्रथम रेडियो की शुरुआत संन 1920 के अंदर हुई थी।

Q4: ट्रांजिस्टर रेडियो का आविष्कार सर्वप्रथम किसने किया था?

Ans: सर्वप्रथम ट्रांजिस्टर रेडियो का आविष्कार “शौकले बरडीन और ब्रटेन” ने साल 1948 में किया था।

Q5: भारत के अंदर कुल कितने रेडियो स्टेशन मौजूद हैं?

Ans: आज के समय में भारत के अंदर कुल 223 रेडियो स्टेशन मौजूद है।

Q6: रेडियो के आविष्कारक का नाम क्या है?

Ans: रेडियो का आविष्कार सन 1880 में “guglielmo marconi, reginald fessenden और william dubilier” ने किया है।

Q7: रेडियो का जनक किसे कहा जाता है?

Ans: रेडियो का जनक “”गुल्येल्मो मार्कोनी” (Guglielmo Marconi) को कहा जाता है।

Q8: रेडियो को हिंदी में क्या कहा जाता है?

Ans: हिंदी भाषा में रेडियो को “आकाशवाणी और दूरवाणी” कहते हैं।

google News

नमस्कार दोस्तों ! मेरा नाम Lakhan Panchal है और मैं इस Blog का Founder हूं, harsawal.com वेबसाइट पर आप mobile review, apps review, mobile games, earn money, apps download, Youtube, Meaning, Cricket, GK, Cryptocurrency, Share Market, Loan, social media से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment